ऐसा भी होता है – दिलचस्प कहानी

महकता आँचल स्टोरी बुक “मैडम आज खाने में क्या बनाना है?” नौकरानी उनके पीछे ड्राइंग रूम में ही चली आई थी। “कीमा मटर, बिरयानी।” कुलसूम बेगम के लहजे में प्यार…

7 Comments

मोतिए का फूल – ख़ूबसूरत खुशबूदार कहानी

फातिमा थकन न से बेहाल घर लौटी तों नूरी आई हुई थी। नूरी उसकी बचपन की सहेली थी। दोनों में बहुत मुहब्बत थी। “कैसी हो नूरी ?” उसने मुस्कुराते हुए…

0 Comments

फूल जैसे रिश्ते – एक कहानी एक सबक

रिश्ते सिर्फ खून से नहीं बनते। एहसास और खुलूस से भी बनते हैं। वह रिश्ते जो हम खुद बनाते हैं अक्सर रेत भी साबित होते हैं। लेकिन अगर नीयतों में…

0 Comments

आइडियल – एक सबक देती कहानी – सायमा हैदर

“अरे हुमा! अभी तक मैली कचैली घूम रही हो। हम तो समझे थे तुम तैयार बैठी होगी।” “क्यों, क्या बात है आज?” “अरे बडी आपा की भांजी शाहिदा की मंगनी है।”…

3 Comments

Dosti aur Bharosa – Khubsurat Afsana

यह मुझे क्या होता जा रहा है आखिर कब तक उसकी यादों की परछाइयां अलाव बनकर मेरे जिस्म को अपने शोलों में लपेटती रहेंगी, मुझे अपने जहन पर अपने दिल…

2 Comments

आई मिलन की बेला – दिलचस्प अफ़साना – हुमैरा राहत

अम्मां बी ने कुछ गलत भी तो नहीं कहा साहिरा आपी। निदा ने उसके चेहरे को अपने हाथों में लेते हुए कहा। “जरा ठन्डे दिमाग से सोचें, ऐसा कब तक…

0 Comments

वफ़ा के रिश्ते – शाइस्ता साजिद – महकता आँचल बुक स्टोरी इन हिंदी

इशा किरन मैं तुमसे मुहब्बत करता हूं, तुम मेरी बात का यकीन क्यों नहीं करती । मुईज कमाल ने उसे बाजू से पकड़ा और अपनी तरफ खींचते हुए पूछा ।…

2 Comments

इज़्ज़त – असरदार अफसाना – फ़ोजिया एहसान

“तुम अरसलान के पास क्‍यों खड़ी थीं।” वह कड़े तेवरों से आंखें सुकेड़ कर पूछ रहा था । “कब?” मायरा ने उल्टा उसी से पूछ डाला। “कैमेस्ट्री के पीर्यड के…

0 Comments

Mujrim by Farah Tahir

“बच्चे बड़े हो जाएं तो मां बाप बूढ़े हो जाते हैं ।” हां मगर अब बूढ़ा और जवान होने की कहावत अब बदल चुकी है, अब तो यह बात समझ…

0 Comments